रिश्ते, प्रेम और सम्मान की कभी expaire date नही होती| जबकि सुंदरता, जबानी आदि समय साथ ढल जाती है।

रिश्ते, प्रेम और सम्मान की कभी expaire date नही होती| जबकि सुंदरता, जबानी आदि समय साथ ढल जाती है।

रिश्ते:- रिश्ते हम ही खुद बनाते है।  उनका निर्वाह भी हम  ही करते है। रिश्ते कभी खत्म नहीं हो सकते|रिश्ते सिर्फ और सिर्फ हम दूसरे के नज़रिये से उनका निर्वाह करते है।

प्रेम:- प्रेम की बहुत बड़ी परिभाषा है। प्रेम अनेक प्रकार का होता है। जैसे माँ का अपने बेटे से होता है जो कभी खत्म नही हो सकता उसका ये प्रेम बिना किसी स्वार्थ के है।

सम्मान:- सम्मान यानि Respect|  हमारे द्वारा किया गयाव्यवहार ही निर्भर करता है कि दूसरा हमारा सम्मान कैसे करेंगा। जैसा हम समाने वाले का सम्मान करेंगे वैसा ही वो हमारा सम्मान करेगा।

इस तरह से सुखी और कामयाब जीवन के लिए रिश्ते ,प्रेम और सम्मान जरूरी है। इसलिए  कहा गया है:-

“दल जाती है हर चीज अपने तय समय पर, मगर रिश्ता ,प्रेम और सम्मान कभी बूढ़े नहीं होते”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized by Optimole
Scroll to Top